पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का 67 वर्ष की आयु में निधन, 5 हजार भारतीयों की बचाई थी जिंदगी

0
129
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार को 67 वर्ष की अवस्था में निधन हो गया है। सुषमा स्वराज को गंभीर हालत में एम्स में भर्ती कराया गया था। सुषमा स्वराज की हालत काफी नाज़ुक बनी हुई थी। स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन, नितिन गडकरी अस्पताल पहुंच चुके हैं। वहीं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी एम्स के लिए रवाना हो गए हैं। बता दें सुषमा स्वराज की तबियत काफी लंबे समय से खराब बनी हुई थी। सुषमा स्वराज ने करीब तीन घंटे पहले ही आर्टिकल 370 हटने के बाद ट्वीट करते हुए कहा था आज अखंड भारत का सपना साकार हुआ है।
सुषमा स्वराज के बारे में…
-सुषमा स्वराज सात बार सांसद रहीं
-मोदी सरकार के 2014-2019 तक के कार्यकाल में विदेश मंत्री के पद पर रहीं
-विदेशों में रह रहे भारतीयों के लिए सुषमा किसी भगवान से कम नहीं थीं
-जब कभी भी परेशानी हुई है तब सुषमा स्‍वराज ने मदद का हाथ बढ़ाया
-सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 में अम्बाला में हुआ था
-राजनीति में आने से पहले सुषमा स्वराज ने सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता के पद पर भी काम किया
-2014 में बीजेपी के सत्‍ता में आने के बाद सुषमा स्‍वराज को विदेशमंत्री का पद सौंपा गया
-इस पद को संभालने के बाद से ही विदेश में रह रहे किसी भारतीय को मदद कीं
-उन्‍होंने कई बार विदेशों में फंसे भारतीयों को सकुशल घर वापसी कराई
4640 भारतीयों को सुरक्षित बचाया
-यमन में जब हूथी विद्रोहियों और सरकार के बीच जंग में हजारों भारतीयों को सुरक्षित निकाला
-यमन में फंसे भारतीयों के लिए सुषमा स्‍वराज ने ऑपरेशन राहत चलाया
-ऑपरेशन के दौरान साढ़े पांच हजार से ज्‍यादा लोगों को बचाया गया
-ऑपरेश इतना सफल रहा कि भारत ही नहीं यमन में फंसे 41 देशों के नागरिकों को इस ऑपरेशन के जरिए ही सुरक्षित बचाया जा सका
सूडान में बचाई भारतीयों की जान
-सूडान के सिविल वॉर में बचाई भारतीयों की जान
-विदेशमंत्री सुषमा स्‍वराज ने ऑपरेशन संकटमोचन की शुरुआत की
-इस ऑपरेशन के तहत दक्षिण सूडान में फंसे 150 से ज्‍यादा भारतीयों को बाहर निकाला गया
-इसमें 56 लोग केरल के शामिल थे
लीबिया में भी मदद के लिए बढ़ाया हाथ
-लीबिया में सरकार और विद्रोहियों के बीच छिड़ी जंग में भी कई भारतीय वहां फंस गए थे
-लीबिया से भारतीयों को सुरक्षित वापस लाने की तैयारी तेज की गईं
-29 भारतीयों को सुरक्षित भारत लाया गया
-इस दौरान एक भारतीय नर्स और उसके बेटे की मौत हो गई
गीता को सकुशल वापस भारत लाया
-पाकिस्तान में भटक कर पहुंच गई गीता को वापस लाया
-15 साल पहले सरहद पार पाकिस्‍तान पहुंच गई 8 साल की मासूम गीता को भारत लाया जा सका
-गीता जब भारत लौटी तब उसकी उम्र 23 साल हो चुकी थी
-गीता भारत आने के बाद सबसे पहले विदेशमंत्री सुषमा स्‍वराज से मिली
इसके अलावा राजनीतिक दूरदर्शिता की धनी सुषमा स्वराज कूटनीति की भी माहिर खिलाड़ी थीं। कई बार उन्होंने विश्व मंच पर भारत का गौरव बढ़ाया था। इसके अलावा विदेश मंत्री के तौर पर उन्होंने कई ऐसे काम किए जिनके बाद हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों के लोगों ने सिर झुकाकर उन्हें सलाम किया। मोदी सरकार की तेज तर्रार मंत्रियों में से एक कही जाने वाली सुषमा स्वराज ने कई बार अंतरराष्ट्रीय मंच पर आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया। आज वह हमारे बीच नहीं हैं, उनकी बातें उनके किए गए काम आने वाले दिनों में युवाओं को प्रेरित करते रहेंगे। श्रद्धांजलि….
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here