अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक, ECMO पर रखा गया, जितेन्द्र सिंह पहुंचे एम्स

0
41
भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है। अरुण जेटली एक्सट्राकॉर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजनेशन (ECMO)पर हैं, जिसका उपयोग सांस लेने या दिल की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है। डॉक्टरों की एक मल्टी डिसिप्लिनरी टीम उनकी निगरानी कर रही है
अरुण जेटली का हाल जानने केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह एम्स पहुंचे हैं। इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और बीजेपी सांसद गौतम गंभीर उन्हें देखने के लिए एम्स पहुंचे थे। रविवार को जेटली के हालचाल जानने के लिए स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और अश्विनी कुमार चौबे, भाजपा सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर और गौतम गंभीर, और आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत पहुंचे थे।
रविवार दोपहर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी जेटली को देखने के लिए एम्स पहुंचे थे। अरुण जेटली को एम्स में डॉक्टरों ने उनकी बिगड़ती हालत को देखते हुए वेंटिलेटर से हटाकर ईसीएमओ (ECMO) यानी एक्सट्राकॉर्पोरियल मेंब्रेन ऑक्सीजिनेशन पर शिफ्ट किया है।
ईसीएमओ पर मरीज को तभी रखा जाता है, जब दिल और फेफड़े ठीक से काम नहीं करते और वेंटीलेटर का भी फायदा नहीं हो रहा होता है। तब इसकी मदद से मरीज के शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाई जाती है।
अरुण जेटली को 9 अगस्त को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ता कराया गया था। वहां उनका इलाज चल रहा है। इलाज के साथ ही उनके लिए दुआओं का दौर भी जारी है। शनिवार को अरुण जेटली के जल्द स्वस्थ होने के लिए हवन किया गया।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here