ये डॉक्टर ले सकते हैं आपकी जान

0
34
ये खबर आपको परेशान कर सकती है , लेकिन है सत्य , देश के 57 फीसदी डॉक्टर झोलाछाप  हैं इनमें से 31 फीसदी तो केवल 12वीं पास हैं, जो किसी भी वक्त मरीज की जान ले सकते हैं…
भाजपा के कार्यवाहक अध्यक्ष और 2018 में मोदी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहे जेपी नड्डा ने लोकसभा में कहा था, देश के 57 फीसदी ऐसे बड़े डॉक्टर हैं जिनके पास कोई डिग्री नहीं हैं वह देश के लोगों की जान लेने पर तुले हुए हैं। इनमें से 31 फीसदी तो ऐसे हैं जिन्होंने केवल 12वीं तक ही पढ़ाई की है। लेकिन उनकी इस बात की पुष्टि अब WHO भी कर रहा है।
दरअसल 2018 में लोकसभा में एक सवाल के जवाब में तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री रहे जेपी नड्डा ने कहा था कि एलोपैथ की प्रैक्टिस करने वाले अधिकांश डॉक्टर झोलाछाप हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि अधिकांश डॉक्टर फर्जी हैं। उनकी इसी बात की पुष्टि WHO ने किया है।
बतादें 2016 में WHO ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया था कि भारत में ऐलोपैथ की प्रैक्टिस करने वाले 57 फीसदी डॉक्टक फर्जी हैं, उनके पास किसी तरह की डिग्री नहीं है। उस दौरान जेपी नड्डा ने इस रिपोर्ट को नकार दिया था। लेकिन अब इसी रिपोर्ट को अब सही माना जा रहा है।
WHO की रिपोर्ट के अनुसार, भारत के 57 फीसदी डॉक्टरों के पास किसी प्रकार की मेडकिल डिग्री नहीं है।उनकी शैक्षणिक योग्यता 12वीं तक ही सीमित है। WHO ने 2011 की जनगणना के आधार पर अपनी रिपोर्ट जारी की थी। रिपोर्ट के मुताबिक ग्रामीण इलाकों में 20 फीसदी ऐसे डॉक्टर हैं जो बिना किसी डिग्री के लोगों का इलाज कर रहे हैं। इसके अलावा 31 फीसदी प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर मात्र 12वीं पास हैं।
इस रिपोर्ट के बाद लोगों के बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के दावे को बड़ा झटका लगा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसे लेकर कहा है,ग्रामीण और शहरी इलाकों में डॉक्टरों को लेकर बेहद असामंजस्यता है। टाइम्स इंडिया के मुताबिक ग्रामीण और गरीब आबादी के बीच बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मौजूद नहीं है लेकिन झोलाछाप डॉक्टर लोगों की जान लेने पर उतारू हैं।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here