निर्भया केसः तो क्या फिर टल जाएगी गुनाहगारों की फांसी, दोषी विनय का नया पैंतरा…

सात साल से ज्यादा वक्त और तीन बार डेथ वारंट जारी होने के बावजूद निर्भया के गुनाहगार जिंदा हैं तो इस पर सवाल उठना लाजिमी है। आखिर ये अब तक इन्हें सजा क्यों नहीं मिल पाई है। हर सबूत चीख-चीख कर उनके गुनाहगार होने का प्रमाण दे रहे हैं लेकिन कानून है कि हर बार मौका दिए जा रहा है। एक बार फिर फांसी पर असमंजस की स्थिति बन गई है। विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने याचिका दाखिल की है जिसमें कहा गया है विनय की मानसिक स्थित खराब है उसे इलाज की सख्त जरुरत है।
दोषी विनय का नया पैंतरा
विनय के वकील एपी सिंह ने दाखिल याचिका में कहा है कि विनय शर्मा को चोट लगने के बाद अपनी मां तक को नहीं पहचान पा रहा है। वकील की तरफ से कहा गया है कि उसे गंभीर मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया हो सकती है। ऐसे में उसका मेडिकल चेकअप करवाया जाए और रिपोर्ट कोर्ट मे दाखिल की जाए।
तिहाड़ जेल की दीवार से टकराया था सिर
एपी सिंह द्वारा दाखिल याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट ने तिहाड़ जेल प्रशासन से दोषी विनय शर्मा का इलाज कराने के निर्देश दिए। कोर्ट ने कहा शनिवार को देबारा इस मामले पर सुनवाई की जाएगी। बतादें विनय शर्मा ने 16 फरवरी को तिहाड़ जेल की दीवार पर सिर टकराकर अपने को चोटिल कर लिया था। हालांकि उसमे मामूली चोट आई थी।
विनय ने लीगल सर्विस से मिले वकील लेने से किया इनकार
उधर दो दिन पहले विनय ने लीगल सर्विस से मिले वकील रवि काजी से तिहाड़ में मिलने से इनकार कर दिया था। उसने कहा था कि वह रवि काजी को अपना वकील नहीं रखना चाहता है। उसके इस इनकार के बाद एपी सिंह ने पटियाला हाउस में अर्जी लगाई। अब शनिवार को तय होगा की तीन मार्च को निर्भया के गुनाहगार फांसी पर चढ़ेंगे या फिर अभी और इंतजार करना होगा।