सुब्रमण्यम स्वामी का उद्गारः अयोध्या में राम मंदिर जल्द, अगली दीवाली वहीं मनायी जाएगी

0
488
सुन्नी वक्फ बोर्ड के पास दलील के लिए कुछ नही बचा, अयोध्य में राम मंदिर जल्द

स्वामी ने रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद मामले की पांच दिसंबर को होने वाली सुनवाई से पहले कहा, इलाहाबाद हाई कोर्ट पहले ही मामले में काफी गहराई तक गौर कर चुका है, सुन्नी वक्फ बोर्ड के लिए इसके खिलाफ दलील देने को कुछ भी बचा नहीं है।

मुंबई। बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है किअयोध्या में राम मंदिर का निर्माण जल्द शुरू होगा और अगली दिवाली तक श्रद्धालु उसमें जा सकते हैं।स्वामी ने ‘रामराज्य’ विषय पर दिए व्याख्यान में कहा, हम अगली दिवाली राम मंदिर में मनाएंगे। उन्होंने कहा, ‘यह संभव है कि अयोध्या में राम मंदिर अगले वर्ष अक्‍टूबर तक लगभग तैयार हो जाए क्योंकि सब कुछ तैयार है तथा निर्माण के लिए सभी सामग्री पहले से निर्मित है। उसे केवल जोड़ना है।

स्वामी ने रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद मामले की पांच दिसंबर को होने वाली सुनवाई से पहले कहा,इलाहाबाद हाई कोर्ट पहले ही गहराई तक गौर कर चुका है और सुन्नी वक्फ बोर्ड के लिए इसके खिलाफ दलील देने को कुछ भी बचा नहीं है। उन्होंने कहा, उस स्थान पर प्रार्थना करना मेरा और हिंदू समुदाय का मूलभूत अधिकार है। मुस्लिमों को वह अधिकार नहीं है, उनकी रूचि केवल सम्पत्ति में है, वह एक सामान्य बात है। भाजपा नेता ने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए एक नया कानून बनाने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने दावा किया कि तत्कालीन नरसिंह राव सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दायर एक हलफनामे में कहा था कि यदि यह स्थापित हो जाता है कि स्थान पर एक मंदिर था तो जमीन मंदिर के निर्माण के लिए दे दी जाएगी। वह अब साबित हो गया है।

शिया वक्‍फ बोर्ड ने कहा
राम मंदिर पर चल रहे विवाद के बीच केंद्रीय शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैयद वसीम रिजवी ने पिछले दिनों बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि,विभिन्न पार्टियों के साथ चर्चा के बाद हमने एक प्रस्ताव तैयार किया है जिसमें अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण और मस्जिद का निर्माण लखनऊ में करवाया जा सकने की बात कही गई है। उन्होंने आगे कहा कि यह एक ऐसा समाधान है जो देश में शांति और भाईचारे को सुनिश्चित करेगा। उन्होंने आगे कहा कि लखनऊ के हुसैनाबाद में मस्जिद का नाम मस्जिदे अमन रखा जाएगा।

आगे भी रास्‍ता निकल आएगा: सीएम योगी

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले अखिल भारतीय अखाड़ा की ओर से शिया वक्फ बोर्ड के साथ राम मंदिर मुद्दे को लेकर सुलह हो जाने का दावा किया गया था। इसी बैठक के बाद शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने ये बयान दिया था कि अयोध्या या फैजाबाद में किसी नई मस्जिद का निर्माण नहीं होगा। किसी मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्र में मस्जिद के लिए जगह चिह्नित कर शिया वक्फ बोर्ड सरकार को अवगत कराएगा।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here