आसाराम ने मुझे रात में बुलाया और फिर…पीड़िता की कहानी, उसी की जुबानी…

0
550

बापू मैं सीए बनना चाहती हूंः पीड़िता

नाबालिग से रेप के मामले में आसाराम को ताउम्र जेल
आसाराम ने कहा था उसे शिक्षिका बनाएगा
19 अगस्त 2013 को आसाराम पर केस दर्ज
नौ गवाहों पर जानलेवा हमला, तीन को मार डाला
58 गवाह पेश, 44 ने दी गवाही

लखनऊ। नाबालिग से यौन शोषण के मामले में जोधपुर अदालत ने आसाराम को ताउम्र कैद की सजा सुनाई है। अदालत ने माना की आसाराम ने नाबालिग के साथ यौन शोषण किया था, इसलिए उसे किसी भी हाल में मॉफ नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा अदालत ने दो अन्य को भी सजा सुनाते हुए उन पर 20-20 लाख का जुर्माना लगाया।

15-16 अगस्त 2013 की रात आसाराम ने बुलाया था

दरअसल पीड़िता ने आसाराम पर आरोप लगाया था कि उसने 15-16 अगस्त की दरम्यानी रात में जोधपुर के एक फार्म हाउस पर इलाज के बहाने उसके साथ बलात्कार किया था। पीड़िता ने दिल्ली की कमलानगर थाने 19 अगस्त 2013 में आसाराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

कमलानगर थाने में दर्ज हुई एफआईआर

आसाराम पर कमलानगर थाने में जीरो नम्बर की एफआईआर दर्ज की गई थी जिसे बाद में जोधपुर ट्रांसफर कर दिया गया था। आसाराम के खिलाफ आईपीसी की धारा 342, 376, 354-ए, 506, 509/34, जेजे एक्ट 23 व 26 और पोक्सो एक्ट की धारा 8 के तहत केस दर्ज हुआ था। इसके बाद 31 अगस्त 2013 को मध्य प्रदेश के इंदौर से आसाराम को गिरफ्तार किया गया।

58 गवाह पेश, 44 ने दी गवाही

जोधपुर सेशन कोर्ट में आसाराम के खिलाफ केस चला। कोर्ट ने आरोप तय किए। आरोप पत्र में 58 गवाह पेश किये गए, जबकि अभियोजन पक्ष की तरफ से 44 गवाहों ने गवाही दी। 11 अप्रैल 2014 से 21 अप्रैल 2014 के दौरान पीड़िता के 12 पेज के बयान दर्ज किये गए। 4 अक्टूबर 2016 को आसाराम के मुल्जिम बयान दर्ज किए गए। इस दौराम आसाराम के गुर्गों ने 9 गवाहों पर जानलेवा हमला किया और तीन गवाहों की मौत के घाट उतार दिया गया।

…और आसाराम को उम्रकैद

22 नवंबर 2016 से 11 अक्टूबर 2017 तक बचाव पक्ष ने 31 गवाहों के बयान दर्ज कराए। इसके साथ ही 225 दस्तावेज जारी किए, एससी-एसटी कोर्ट में 7 अप्रैल को बहस पूरी हुई और कोर्ट ने फैसला सुनाने की तारीख 25 अप्रेल तय कर दी। पुलिस की चार्जशीट में आसाराम को नाबालिग छात्रा को समर्पित करवा कर यौन शोषण करने का आरोपी माना तथा आसाराम को उम्रकैद की सजा सुनाई।

आइए जानते हैं पीड़िता की कहनी उसी की जुबानी…

यूपी के शाहजहांपुर की रहने वाली पीड़िता ने आईपीसी की धारा 164 के तहत अपना बयान दर्ज कराया था। पीड़िता ने जो कुछ बताया उसे सुनने वाले हैरान थे, किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि आसाराम बापू ऐसी नीच हरकत कर सकता है, लेकिन यही सच था। पीड़ित लड़की का बयान जितना दर्दनाक था उतना ही खौफनाक…

पुलिस की चार्जशीट में दर्ज पीड़ित लड़की का बयान दर्दनाक और खौफनाक है। 6 अगस्त 2013-आसाराम के गुरुकुल में पढ़ने वाली पीड़ित लड़की की तबीयत खराब होती है। उसके पेट में दर्द होता है। बाबा की एक साधक शिल्पी लड़की पर प्रेत का साया बताती है। वह पीड़िता से कहती है कि ये प्रेत आसाराम बापू ही दूर करेंगे, फिर पीड़ित लड़की को आश्रम में आसाराम के पास ले जाया जाता है।

आसाराम- हम तुम्हारा भूत उतार देंगे। तुम कौन सी क्लास में पढ़ रही हो
पीड़ित लड़की- बापू मैं सीए करना चाहती हूं
आसाराम- सीए करके क्या करोगी तुम। बड़े से बड़े अधिकारी मेरे पैरों में पड़े रहते हैं। तुम तो बीएड करके शिक्षिका बनो। तुम्हें अपने गुरुकुल में शिक्षिका बना दूंगा। इसके बाद में प्रिंसिपल भी बना दूंगा। अभी तुम पर भूत का साया है। तुम रात को वापस आओ। तुम्हारा भूत उतारूंगा।
पीड़ित लड़की- ठीक है बापू
इसके बाद पीड़िता वहां से चली जाती है। 15 और 16 अगस्त 2013 की दरम्यानी रात उसे कुटिया के अंदर बुलाया जाता है। कुटिया में रसोइया एक गिलास दूध लेकर आया। इसके बाद आसाराम ने लड़की के साथ वो किया, जो नहीं करना चाहिए था। आरोप है कि लड़की का यौन उत्पीड़न करने के बाद आसाराम ने उसको धमकी भी दी थी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here